Home » YOU ARE HERE » आधुनिक विकास समय की मांग

आधुनिक विकास समय की मांग

कोरोना एक वैश्विक बीमारी है जो महामारी का रूप ले रही है।इस अवसर पर सब को एक जुट हो सरकार साथ देना है ताकि भारत इस विजय पा सके। कई लोग सरकार की विकासवादी नीतीयों पर प्रश्नचिन्ह लगाते रहते है जैसे बुलेट ट्रेन क्यों आवश्यक है राफेल या सेना को सुसज्जित करने की क्या आवश्यकता है इसके अलावा कई तो बढ़िया किस्म की सड़कों पर प्रश्नचिन्ह लगाने का प्रयास करते है।इसके अलावा सरदार पटेल की मूर्ति के बारे में कहते है कि इससे कई लोगों का पेट पलना था या अस्पताल बनाते।मैं यहां कहना चाहता हूँ कि आपकी अपनी समझ।ताजमहल शाहजहाँ ने बनवाया क्या आवश्यकता थी पर आज इसकी आय अरबों में है लाखो पर्यटक हर वर्ष आते है और लाखो लोगों का भरण पोषण होता है।सरदार पटेल की प्रतिमा जहां इस राष्ट्र भक्त लौह पुरुष की  याद दिलाती है वहीं इसे अभी थोड़े ही समय में राज्य सरकार को 100 करोड़ से अधिक राजस्व प्राप्त हो चुका है और बहुत तेज़ी से एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल के रूप में विकसित होगा।10 वर्षों में इसकी कीमत निकल जायेगी और लाखों गरीबों जैसे होटल टैक्सीवाले ठेले वाले फोटोग्राफर गाइड आदि को रोजगार मिलेगा।जो पैसा आयेगा उससे विकासात्मक कार्य होंगे।10 दिसंबर 2019 को  राज्य के वित्त मंत्री ने सदन में कहा था कि अब तक 82.51 करोड़ की आय प्राप्त हो चुकी थी। बाकी बुलेट ट्रेन व रोड  सरकार अपने पैसे से नहीं बनाती उस के लिये टेंडर आमंत्रित होते है और कुछ वर्षों तक उसी कंपनी को इनको चलाने का काम मिलता है और पैसा वापिस हो जाता है।जहां तक अस्पताल बनाने का प्रश्न देश में बहुत निजी व सरकारी अस्पताल है।ये अवश्य है कि मूल भूत सुविधाओं का अभाव है ये पूर्व से चले आ रहे ग़लत आचरण का नतीजा है।इटली स्वास्थ्य के क्षेत्र में  विश्व का नंबर 2 देश है पर आज जो इटली का हाल है वो किसी से छुपा नही।भारत की सरकार ने समय रहते ठोस कदम उठाए है अब सब जनता के हाथ में है कि वह कितना सहयोग करती है।अतः मैं सिर्फ ये कहना चाहता मूल भूत सुविधाओं के साथ साथ आधुनिक सुविधाओं का विकास भी होना समय की मांग है।यदि हम उस समय की प्रतीक्षा करेंगे कि जब सब कुछ ठीक होगा तब विकास करेंगे तो हम काफी पिछड़ जायेंगे।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.