'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

(कुल्लुवी नाटी) दीपक शर्मा 'कुल्लुवी'

18.3.140 पाठकों के सुझाव और विचार

(कुल्लुवी नाटी) 

झुर्रिए झुर्रिए मेरी प्यारी झुर्रिए 
पौटू सा बाँका तेरा काला हो
सीपी रे मोती साईं चिट्टे चिट्टे दौंदड़ू 
गौले ने बाँकी लाहुली माला हो  
झुर्रिए झुर्रिए मेरी प्यारी झुर्रिए पौटू........
(1)रूप  श्रृंगार तेरा सुपणे री परी साईं 
दिलड़ू नी लागदा जैबे तेरी याद आयी 
मन होई जा सा काहला हो 
झुर्रिए झुर्रिए मेरी प्यारी झुर्रिए पौटू........
(2)जैबे तू हौस्सदी ऐंडी बाँकी लागदी 
पैरा सी पाजेब तेरी छम्म छम्म करदी 
लुटी जा सा दिल भोला भाला हो 
झुर्रिए झुर्रिए मेरी प्यारी झुर्रिए पौटू........
(3) थिपू ,बुमणी लागदी शोभली 
तेरी ख़ातिर जँग लागी छिड़दी 
चलदी लागी तलवारा हो
झुर्रिए झुर्रिए मेरी प्यारी झुर्रिए पौटू........




दीपक शर्मा 'कुल्लुवी' 
दीपक साहित्य सदन 
शमशी कुल्लू हिमाचल प्रदेश 
09776261006

Especially written for well known himachali singer Sh.Piyush Raj Ji 
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.