'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

भारत की राजनीती

9.2.130 पाठकों के सुझाव और विचार

                         भारत  की राजनीती  की सब से बड़ी त्रासदी  यह है की  यहाँ  जो  भी  राजनातिक दल  केंद्र में या राज्य  में सतासीन  होता है उस की रणनीति  यही  होती है की पार्टी अपने    चाहने वालो  और खासमखासों को अच्छे  पद व  सुखसुविधाये प्रदान करे  और  जिस से सता  छिनी  है  उस पार्टी  के अफ़सरों व  खासमखासों  को  कही एसी  जगह  तेनती  दी जाए  जहा से  वे  लोग  सता  के  गलियारों से दूर  रहे  एक  तरह से  उन को कोई अहम  कम न दे कर  सिर्फ  आराम का मोका दिया  जाये।इसी तरह  जब पुरानी पार्टी फिर  से सतासीन होती है यही क्रम पुन:दोहराया  जाता है। कुछ अफ़सर तो  अपनी ताजपोशी के लिए  अजीबो गरीब हथकन्डे  अपनाने  में  भी गुरेज नहीं  करते तो  कुछ अपनी ऊँची  पहुच व निष्ठा  का या  यूं  कहिए चमचागिरी का राग अलाप कर मनवांछित पद को पते है।इसे सताधारी की  कुशी ,इच्छा ,अपना वर्चस्व दिखाने का अहंकार ,राजनेतिक बदला या सता में बने  रहने की मजबूरियां ......?

                       यहाँ  मेरा ये कहना  है कि  हर  दोनों  राजनेतिक  पार्टी -पक्ष  एवं  विपक्ष के  ये अवसरवादी लोग  केवल अपना  हित  ही देखते है देश ,दुनिया और प्रदेश  हित से इन्हें  कुछ लेना देना  नहीं  होतो। कुछ  चमचों की तो इतनी  हिमाकत बड़  जाती है कि  वो तो न छोटा  देखते है न बड़ा शर्म  लिहाज संस्कार  उन को छूते  तक नहीं। विडम्बना तो ये है की ये राजनेता  भी इन चापलूसों की  सुनते  है  और  इन्ही की मर्जी के आदेश  हो जाते है। राजनेता  ये भूल  जाते है की जो राजसुख वो भोग रहे है वो चमचो के बल पर नहीं आम आदमी के आशिर्वाद के फलस्वरुप  भोग रहे है ।

                      एक और बात जो अहम है  वो  पक्ष -विपक्ष की जो ये खासमखासों की उठा -पटक  है इस का अंजाम होता है दोनों ही पक्षों  को पाँच -पाँच सालों की सुरक्षा  गारेंटी योजना ....! और अधिकांश अफसरों ,कर्मियों तथा कामगारों को शिथिल कर  देना। इस राजनेतिक चक्की में  पिस्ता है वो  जो न इधर का है न उधर का,.. बेनामी  जायेदाद भी यही  दोनों  किसम के लोग  बनाते है चर्चायें तो होती है एक्शन कमेटी भी बनती है जब फ़ैसले का वक्त आता है  फिर सता पलट  जाती है खुडालेन वाले लेन में आ जाते है  लेन वाले खुडालेन में  चले जाते है यही  क्रम चलता आ रहा है और उम्मीद है आगे  भी जारी रहेगा।। कियूँकी    दोनों  पक्ष  जानते है अल्टीमेटली होगा कुछ नहीं। पाँच साल एक भोगे तो फिर पाँच साल दूसरा ...!!, आम आदमी अपनी बनाने के लिए भगवान  क़े दर   जाये ,अल्लाह की दरगाह पर रोये ,ईसा के घर मोमबती जलाये,  गुरु नानक  शरण जाये---- या फिर  भाड़  में जाये !!!!भारत  महान है परमात्मा के नाम से  देश चल ही   रहा है,..और अच्छा चल रहा है .........  

             मेरी मानो तो ये देश इन बीच वालों के सिर  और दम पर चला है। गाँधी , सुभाष  भगत जेसे  महापुरूष अगर  आज होते तो कुछ  करते , या कूच कर  लेते। अबके  महापुरूष तो सिर्फ उपदेश ही करते है  ,दवाइयाँ बेचते है नेता, समाजसेवक व मिडिया संसद में ,टीवी चैनेल पर केवल चर्चा ही करते .....!!!

अमृत कुमार शर्मा 



Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.