'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

अखिल भारतीय स्वतन्त्र लेखक मंच का वार्षिकोत्सव

27.12.120 पाठकों के सुझाव और विचार

अखिल भारतीय स्वतन्त्र लेखक मंच का वार्षिकोत्सव

दीपक 'कुल्लुवी' (देहली ब्यूरो चीफ) न्यूज़ प्लस ऑन लाइन चैनल I

सोमवार सांय चार बजे से लेकर रात्री आठ बजे तक कनाट प्लेस गोल मार्किट स्थित 'मुक्तधारा' आडोटोरियम में अखिल भारतीय स्वतन्त्र लेखक मंच का वार्षिकोत्सव श्रृंगार के अनूठे महाकवि बिहारी लाल जी की स्मृति में आयोजित किया गया I मुख्य अतिथि पूर्व राज्यपाल श्री भीष्म नारायण सिंह अत्यधिक व्यस्तता के कारण आ नहीं सके I' मुक्तधारा आडोटोरियम हाल और बालकनी दर्शको,मिडिया,पत्रकारों,कलाकारों से खचाखच भरा हुआ था I
इस कार्यक्रम में भारतवर्ष की लगभग पचास प्रतिभाओं को महाकवि बिहारी लाल जी के सम्मान से अलंकृत किया गया I सम्मान वितरण समारोह में मेरठ से पधारे डाo एस पी सिंह ,आकाशवाणी दिल्ली के महानिदेशक लक्ष्मी कान्त वाजपेयी तथा अखिल भारतीय स्वतन्त्र लेखक मंच के अध्यक्ष श्री लक्ष्मण सिंह सवतंत्र ,जर्नलिस्ट टुडे नैटवर्क प्रमुख श्री योगराज शर्मा जी की भूमिका उल्लेखनीय रही I
कार्यक्रम में डा 0 सुभाष श्रीवास्तव की बच्चों की पुस्तक 'चूहा राज की बारात' के साथ अन्य तीन पुस्तकों और एक फिल्म की डी 0 वी0 डी0 ' मेवात' का टाइगर का बिमोचन किया गया 'मेवात' का टाइगर ' फिल्म के तमाम कलाकार भी मंच पर उपस्थित थे I
पत्रकारिता के इस साहित्य कला एवं गरिमा मय सम्मान वितरण समारोह में शिक्षा समाज सेवा महिला शक्ति सम्मान भी वितरित किए गए I

इस सम्मान का एक उज्जवल पक्ष यह रहा की पहली बार इतनी हस्तियों को सम्मान मिला एन0 डी0 टी0 वी0 रिपोर्टर मुन्ना भारती ,बहराइच के खोजी पत्रकार मिर्ज़ा,डाo एस पी सिंह,गुरु जी,प्रेमा देवी,डा 0 के एस आनंद ,डी0 के0 शक्य ,चन्द्र शेखर शास्त्री,सोहन लाल जी,एक्टर राकेश राजपूत,मुसाफिर देहलवी,नंदा बल पालीवाल ,नेहा आस ,हास्य कवि एस 0 एल0 वर्मा सम्मान पाने वाले प्रमुख थे I सबको प्रशस्तिपत्र ,शाल , माला,स्मृति चिन्ह दिए गए
अखिल भारतीय स्वतन्त्र लेखक मंच के अध्यक्ष श्री लक्ष्मण सिंह सवतंत्र जी ने कार्यक्रम का उद्घघाटन , शुभारम्भ राजस्थान से आए गौरक्षा समिति के अध्यक्ष गुरु जी के हाथों से सरस्वती दीप प्रज्व्वालित करावा कर करवा कर किया I
बच्चों ने गीत नृत्यों के रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए ,गीत गजलों का दौर भी बीच बीच में चलता रहा I
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.