sponsor

sponsor

Slider

समाचार

साहित्‍य

धर्म और संस्‍कृति

स्‍वास्‍थ्‍य

इतिहास

खेल

विडियो

कौन


मय के प्याले तो इक बहाना है
पी के यहाँ कौन भूल पाता है
यह तो इक ऐसा दर्द है दोस्तों
जो मौत के साथ ही जाता है

दीपक कुल्लुवी
کون

مے کے پیالے تو اک بہانہ ہے
پی کے یہاں کون بھول پتا ہے
یہ تو اک ایسا درد ہے دوستو
جو موت کے ساتھ ہی جاتا ہے

دیپک کلّوی

ग़ालिब ने जितनी पी
हम उतनी पी नहीं सकते
वोह ब्रांड भी नहीं है
सस्ती भी नहीं मिलती

غالب نے جتنی پی
ہم اتنی پی نہیں سکتے
وہ برانڈ بھی نہیں ہے
سستی بھی نہیں ملتی

دیپک کلّوی
٣/٩/١٢
٩٣٥٠٠٧٨٣٩٩
दीपक कुल्लुवी


«
Next
नई पोस्ट
»
Previous
पुरानी पोस्ट

कोई टिप्पणी नहीं:

Leave a Reply

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.