'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

धारा के विपरीत --- संस्‍मरण

9.6.121पाठकों के सुझाव और विचार

वह वर्ष 2003 का संभवत: अगस्‍त या सितंबर महीने के कोई शनिवार का दिन था ।  लखनऊ का दिल कहा जाने वाला हजरतगंज चौक से मैं मिनी बस से गोमती नगर को घर के लिए जा रहा था ।  मिनी बस खचाखचा भरी हुई थी।  बस में जो थोडी सी सीटें थी, वे सब क्षमता से भी अधिक भरी हुई थी ।  अधिकतर सवारियां खड़ी थीं ।  चलती,  रूकती बस हजरतगंज से गोमती नगर के हुसैडिया चौराह तक पहुंचते - पहुंचते आधा घंटे से अधिक का समय ले लेती है ।  हां तो,  बस में अधिकतर सवारियां खड़ी थी ।  वैसे तो कहीं भी कोई किसी की बातों पर ध्‍यान नहीं देता है ।  बस हो या ट्रेन,  हर कोई अपने काम से  काम रखता है।  विशेषकर लोकल ट्रेन, बस अथवा कम दूरी की सवारियां । लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हें जो दुनिया जहान को भुला कर अपने में ही व्‍यस्‍त और मस्‍त रहते हैं बस में सभी सवारियां खामोश बैठी हुई थी ।  परन्‍तु लोगों का ध्‍यान उस ओर खिंच गया था जहां दो युवक  खड़े - खडे आपस में बातें कर रह थे । दोनों ऊंचे कद काठी के, सुदर्शन और युवा थे । उन का पहरावा भी अच्‍छा था,  यानी वे दोनों आधुनिक वेशभूषा में थे ।  उन की आपस में बातें पहले तो धीरे -धीरे लेकिन फिर उन की वार्तालाप जैसे -जैसे आगे बढ़ रही थी, उन की बातों की आवाज बढ़ती हुई सभी को सुनाई देने लगी थी । सब लोग खामोशी से उन की बातों को ध्‍यान से सुनने लगे थे और एक दूसरे की आंखों ही आंखों में देखने लगे थे ।  दोनों युवक आपसी बातचीत में इतने तल्‍लीन थे जैसे बस में दोनों के अतिरिक्‍त कोई न हो ।  लेकिन लोगों की उत्‍सुकता और जिज्ञासा बढ़ती ही जा रही थी ।  क्‍योंकि वे दोनों जिस भाषा में बातें कर रहे थे,  स्‍वाभाविक है सभी को जिज्ञासा होनी ही थी ! और,  जिज्ञासा हो ही रही थी ।   दरअसल,  वे दोनों एक ऐसी भाषा में बातें कर रहे थे जो आजकल प्राय: कहीं सुनाई नहीं देती है  ।  प्रचलन से लगभग लुप्‍त हो चुकी है ।  लेकिन आम भारतीय को जिस पर गर्व है ।  जिसे लोग देश की पहचानदेश की संस्‍कृति, देश की धरोहर कहते हैं । पर व्‍यवहार में कोई उस भषा का प्रयोग नहीं करता है ।  अर्थात , वे दोनों युवक संस्‍कृत में बातें कर रहे थे ।  इसीलिए सभी उत्‍सुकता और जिज्ञासा से उन दोनों की बातें सुन रहे थे । इसी जिज्ञासावश मैं अपने को रोक नहीं सका और पूछ ही लिया,  क्‍या आप दोनों संस्‍कृत के अध्‍यापक या प्राध्‍यापक हैंकिसी कालेज या यूनिवर्सिटी में पढ़ाते हैं ? क्‍योंकि दोनों की अवस्‍था 25 -26 वर्ष की लग रही थी ।  कपडे भी अच्‍छे और सलीके से पहने हुए थे । मेरे पूछने पर दोनों ने लगभग एक साथ जवाब दिया,  नहीं हम पढ़ाते नहीं । अध्‍यापक  या प्राध्‍यापक भी नहीं हैं । हम तो केवल विद्यार्थी हैं । संस्‍कृत भाषा के स्‍टुडेंट । ये लखनऊ विश्‍वविद्यालय से पी एच डी कर रहे हैं ।  और,  मैं हिमाचल यूनिवर्सिटी शिमला से संस्‍कृत पर शोध कर रहा हूं । विश्‍वविद्यालयों द्वारा स्‍टुडेंटस में आपसी संपर्क स्‍थापित करने के प्रयोजन से मैं शिमला से यहां आया हूं ।  अभी इन के घर गोमती नगर जा रहे हैं।  उन्‍होंने एक ही सांस में अपना परिचय दे दिया था।  बस में बैठे सभी लोग जैसे गर्व से भर उठे थे । और मै सोच रहा था कि आज लोग अपनी भाषा को छोड़ कर केवल अंग्रेजी में अपना पांडित्‍य प्रदर्शित करते हैं ।  अपने को विद्वान समझते हैं  । ऐसे में इन जैसे युवा पीढ़ी यदि अपनी भाषा अथवा भारत की थाती संस्‍कृत भाषा को प्रयोग करे तो हमें भाषा के लिए विदेशियों की नजरों में नहीं गिरना पडेगा । बस भागी जा रही थी ।  वे दोनों युवक आपसी बातचीत में दोबारा  व्‍यस्‍त हो गए थे ।  लेकिन लोगों को सोचने के लिए एक विषय दे दिया था । अपने भीतर के स्‍वयं को लोग देखने का प्रयास करेंगे ही,  बेशक थोड़े समय, थोड़े दिनों के लिए ही सही ।                                                                                                                                                                                                                        
                                o शेर सिंह                                                                                                         के. के.- 100 ,
                   कविनगर, गाजियाबाद -201 001
                                          E–Mail: shersingh52@gmail.com

Share this article :

+ पाठकों के सुझाव और विचार + 1 पाठकों के सुझाव और विचार

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.