Home » YOU ARE HERE » पर्यावरण

पर्यावरण

invitation.jpg
पर्यावरण

यूँ तो पर्यावरण की बातें हम सब करते हैं
लेकिन रात में घर का कचरा गली में भरते हैं
दोष देते सरकार को हम,ऐसा क्यों होता है
शायद हमको जिम्मेदारी का एहसास नहीं होता है
जब तक हम न सुधरेंगे,कोई न सुधरेगा
इल्ज़ाम का क्या है लगाते रहो,प्रदूषण बढ़ता रहेगा
नारे लगाओ न बातें करो,वृक्षारोपण कुछ तो करो
आवो-हवा कुछ तो बदलो यारो, धरा पर कुछ उपकार करो
वर्ना पछताओगे और हाथ मलते रह जाओगे
भरी जवानी में यारो बूढ़े से नज़र आओगे
खिलबाड़ करोगे प्रकृति से तो वोह क्यों बख्शेगी
बदला लेगी सबसे वोह तवाह करके दम लेगी
प्राकृतिक आपदाएँ यूँ ही नहीं आती
सूखा,गर्मीं सर्दी,बाढ़ यूँ ही नहीं खाती
हिमशिखरों की वर्फ पिघल रही,गर्मीं चारों और बढ़ रही
सारी दुनिया पर्यावरण की बस चौतरफा मार झेल रही
जंगल कट गए सूखी नदियाँ खेत खलिहान वीरान
बन जाएगी पृथ्वी सारी जीते जी शमशान
जीते जी शमशान ------------

दीपक 'कुल्लुवी'
09350078399

1 comments:

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.