'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

परिकल्पना सम्मान हेतु चयनित ब्लॉगरों की सूची

26.5.120 पाठकों के सुझाव और विचार


बात उन दिनों की है जब फेसबूक,ट्यूटर जैसे सोशल नेटवर्किंग के आकर्षण मे आवद्ध होकर ब्लॉगरों की ब्लॉग पर सहभागिता कुछ कम होने लगी थी । ब्लॉग जैसे लोकतान्त्रिक माध्यम से हिन्दी को नया आयाम देने और पारस्परिक प्रेम के आदान-प्रदान हेतु मेरे द्वारा कुछ मित्रों को साथ लेकर ब्लॉग पर उत्सव कीपरिकल्पना की गयी, क्योंकिउत्सव का अभिप्राय ही है पारस्परिक प्रेम का आदान-प्रदान। 

परिकल्पना पर १५ अप्रैल २०१० से शुरू हुये उस उत्सव की पंचलाइन थी -अनेक ब्लॉग नेक हृदय...। यह उत्सव दो माह तक निर्वाध गति से परिकल्पना पर जारी रहा। इसका समापन हमनेविभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देनेवाले 51 चिट्ठाकारों के सारस्वत सम्मान से किया। उत्सव के दौरान सारगर्भित टिपण्णी देने वाले श्रेष्ठ टिप्पणीकार को भी इस अवसर पर सम्मानितकिया गया 

उस उत्सव का मुख्य आकर्षण था दुष्यंत के बाद सर्वाधिक चर्चित गज़लकार श्री अदम गोंडवी की रचनात्मक उपस्थिती । उ० प्र० प्रगतिशील लेखक संघ की राज्य इकाई के सदस्य श्री शकील सिद्दीकी ने उस अवसर पर बताया कि कैसे हिंदी ब्लोगिंग ने एक उत्तेजक वातावरण का निर्माण किया है ? ,श्री समीर लाल समीर ने बताया उड़न तश्तरी की कामयाबी का राजहिंदी चिट्ठाकारिता में अपने अनुभवों से रूबरू कराया श्री ज्ञानदत्त पाण्डेय नेहिंदी ब्लोगिंग के कई अनछुए पहलूओं को उजागर किया श्री रवि रतलामी नेहिंदी ब्लोगिंग की समृद्धि को आयामित करने के उपायों पर चर्चा की श्री शास्त्री जे० सी० फिलिप अविनाश वाचस्पतिजी०के०अवधियागिरीश पंकज आदिहिंदी चिट्ठाकारी की विकास यात्रा पर प्रकाश डाला श्री अरविन्द श्रीवास्तव ने ....आदि-आदि

वाणी वन्दना और गणपति वन्दना को स्वर देकर उत्सव का श्री गणेश किया सुश्री स्वप्न मंजूषा'अदाऔर सुश्री पारुल ने। वाणी वन्दना और उत्सव गीत लिखे आचार्य संजीव वर्मा 'सलिलने । इस अवसर पर श्री मती निर्मला कपिला की प्यारी ग़ज़ल को स्वर दिया श्री सुनील सिंह डोगराने। प्रेम के प्रतीक श्री इमरोज से प्रेम परक बातचीत प्रस्तुत की श्री माती रश्मि प्रभा नेअपनी कविताओं को स्वयं आवाज़  दिये श्री पंकज सुबीर रश्मि प्रभा अनुराग शर्मास्वप्न मंजूषा'अदा'आदि रचनाकार । रंजना (रंजू) भाटिया ने सुनाया उत्तराखंड की यात्रा का वृत्तांत। इसके अलावा ढेरों कविताएँगीत,ग़ज़लकहानियां संस्मरण आदि पढ़ने और सुनने को मिले 

वर्ष-2011 मे भी परिकल्पना पर ब्लॉग उत्सव मनाया गया और इसमें शामिल हुये 500 से ज्यादा ब्लॉगर, किन्तु जब सारस्वत सम्मान देने की बारी आई तो ऐसे लोगों का विरोध दिखा जो इस ब्लोगोत्सव का कभी हिस्सा ही न रहे । फिर भी मैंने सबकी सलाह सुनी और सबकी टिप्पणी पर गौर किया । 

दशक के ब्लॉग और ब्लॉगर हेतु कराये गए मतदान पर भारी संख्या मे मत प्राप्त हो रहे है । समय-समय पर रुझान बताने से ब्लॉगरों मे भ्रम की स्थिति बनती है । इसलिए दशक के ब्लॉग और ब्लॉगर के चयन की अंतिम सूची  हम जून-2012 के प्रथम सप्ताह मे जारी करेंगे और उनका सारस्वत सम्मान हम अगस्त माह के प्रथम सप्ताह मे परिकल्पना सम्मान समारोह मे करेंगे ।

विषय आधारित 41 ब्लॉगरों के चयन मे तमाम ब्लॉगरों की सलाह पर गौर किया जा रहा है और उन सलाहों के आधार पर एक सूची तैयार कराते हुये  निर्णायक मण्डल को भेजा जा रहा है, निर्णायकों के प्राप्त मन्तव्य के आधार पर सहमति बनाते हुये हम शीघ्र चयनित सूची आप सभी के सामने लाएँगे । 


संतोषत्रिवेदी जी और मनोज पाण्डेय जी ने इस पूरे प्रकरण की निष्पक्ष समीक्षा करते हुये कुछ महत्वपूर्ण सलाह दिये हैं, जिसे पूरी गंभीरता के साथ अमल मे लाया जा रहा है । तबतक धैर्य बनाए रखें ।  रवीन्द्र प्रभात
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.