'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

चलिए परिकल्पना ब्लॉगोत्सव की ओर....

29.4.120 पाठकों के सुझाव और विचार

आज के दौर में निजता यानि की प्राइवेसी का भी अपना मूल्य है । उस निजता का जो कभी अनमोल हुआ करती थी । तभी तो सच को स्वीकार करने के नाम पर एक आम हिन्दुस्तानी से लेकर जाने माने चहेरों तक, सभी की हिम्मत देखते ही बनती है । इसे मनोरंजन कहिये या स्वयं के जीवन के सारे भेद खोलने के मूल्य का खेल, करना बस इतना है कि आइये और सच को स्वीकारिये । सच, जो आपके अपने जीवन से जुड़ा है । सच ,जिसे आपने अभी तक किसी अपने से भी साझा न किया हो ।
पढ़िए वटवृक्ष पर :

और फिर चलिए परिकल्पना ब्लॉगोत्सव की ओर :

pranab-mukherje_1331882459

आदरणीय वित्त-मंत्री जी,

Written by Abhishek Prasad | March 29, 2012 | 
आदरणीय वित्त-मंत्री जी, सबसे पहले तो सादर अभिनन्दन स्वीकार करें. इतने बड़े लोकतान्त्रिक देश...
durga09

देवी व्रत में कुमारी पूजन परम आवश्यक माना गया है

धर्म-संस्कृति श्री दुर्गा सप्तशती पुस्तक का विधिपूर्वक पूजन कर इस मंत्र से प्रार्थना करनी चाहिए। नमो...
उत्तर भारत के ऐतिहासिक क्षेत्र बुन्देलखण्ड

बुन्देली भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के निहितार्थ

लोक विमर्श एक लम्बे अरसे बाद मध्यप्रदेश की विधान सभा ने 24फरवरी 12 को एक अशासकीय संकल्प के द्वारा...





Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.