Home » YOU ARE HERE » मैं राहे ज़िंदगी पे चलता जाता हूँ--गज़ल

मैं राहे ज़िंदगी पे चलता जाता हूँ--गज़ल




मैं राहे ज़िंदगी पे चलता जाता हूँ
अहसासे रूह मगर मैं करता जाता हूँ

चोटों से ज़िंदगी की मैंने सीखा है
ज़ख्मों को यों तभी अपने भरता जाता हूँ

दुःख दरदों से कभी डरना कैसा है अपने
दर्दमंदों के मगर दरद से मैं मरता जाता हूँ

इन्सा जो भी वफा की राहों पे चलते हैं
उनका मैं तो हमेशा ही सजदा करता जाता हूँ

सच की राहें बड़ी है आसाँ चलने को
पैगामे ज़िंदगी मैं ऐसा कहता जाता हूँ        !!
                                                             --अश्विनी रमेश !

6 comments:

  1. बेहतरीन ग़ज़ल....बहुत खूब.....

    जवाब देंहटाएं
  2. सुषमा जी,
    टिप्पणी के लिए तह दिल से शुक्रिया !वाकई आप एक जागरूक लेखक/पाठक हैं !

    जवाब देंहटाएं
  3. मैं राहे ज़िंदगी पे चलता जाता हूँ
    अहसासे रूह मगर मैं करता जाता हूँ

    adbhut aihsas.....prerna dayak.....rachna..

    deepak kuluvi

    जवाब देंहटाएं
  4. चोटों से ज़िंदगी की मैंने सीखा है
    ज़ख्मों को यों तभी अपने भरता जाता हूँ....
    वाह क्या बात है.... लगता है जैसे ये मेरी ही जिन्दगी का फलसफा है

    जवाब देंहटाएं
  5. दीपक जी,
    दाद के लिए शुक्रिया !

    जवाब देंहटाएं
  6. अनिल जी,
    पसंदीता शेर सहित गज़ल पर दाद के लिए शुक्रिया !

    जवाब देंहटाएं

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.