'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

श्री हनुमान जयंती के पावन पर्व पर भजनों की धूम 31 फुट ऊँची हनुमान जी की प्रतिमा का अनावरण एवं लोकार्पण I दीपक शर्मा "कुल्लुवी" सिटिजन जर्नलिस्ट (जर्नलिस्ट टुडे नेटवर्क )

19.4.110 पाठकों के सुझाव और विचार

श्री हनुमान जयंती के पावन पर्व पर भजनों की धूम
31 फुट ऊँची हनुमान जी की प्रतिमा का अनावरण एवं लोकार्पण I

दीपक शर्मा "कुल्लुवी" सिटिजन जर्नलिस्ट (जर्नलिस्ट टुडे नेटवर्क )



कल शाम सात बजे से लेकर देर रात बारह बजे तक
श्री हनुमान जयंती दिन सोमवार दिनांक 18-04-2011 श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर में रोड गली न १२ गोविंदपुरी ,गुरु रविदास मार्ग नई दिल्ली के पार्क में बड़ी धूमधाम से मनाया गया इस पावन दिवस पर
श्री हनुमान जी की 108 लाख राम नाम से प्रतिष्ठा 31 फुट ऊँची प्रतिमा का अनावरण एवं लोकार्पण किया गया
नवनिर्मित प्रतिमा देखते ही बनती है I
अनेक लोकप्रिय बिभूतियों नें जैसे श्री रमेश कुमार(सांसद) श्री सुभाष चोपड़ा (विधायक) अतिथि :श्री राकेश चन्द्र ईस्सर (निगम पार्षद) श्री खविंद्र सिंह कैप्टन (निगम पार्षद) इस प्रोग्राम के आयोजक थे : श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर I श्री राकेश चन्द्र ईस्सर,रमेश सतीजा,मदन लाल चड्डा ,आदेश गोयल,संजय शर्मा,अरुण शर्मा,सुभाष शर्मा,राजेश शर्मा,संजय राय,नितिन कक्कड़, पंकज, संतोष, विनोद, मनोज एवं. समस्त कार्यकारिणी सदस्यों और समस्त पुजारी गणों
संतोष कुमार उपाध्याय ,सैलेश कुमार उपाध्याय,शिव शर्मा,उदय शर्मा,ओम जी
नें इस कार्यक्रम को सफल बनाने हेतू सम्पूर्ण सबनें बड़े जोश-ओ-खरोश से
काम
किया I
साईं युवा मंडल का योगदान भी प्रमुख है I साईं नागपाल जी ,इस्सर जी ,नरेश मिश्रा जी प्रोग्राम के अंत तक मौजूद रहे I सुभाष चोपड़ा जी लगभग बारह बजे पंडाल में उपस्थित हुए I
इस मनमोहक कार्यक्रम में बजरंगबली जी का गुणगान किया बहुत ही सुन्दर आवाज़ ,दिलकश सुफियाना अंदाज़ के मालिक श्री जगदीश लाल "ज्योति" जी और साथियों नें जैसे राजू,दीपक शर्मा कुल्लुवी, उनके छोटे भाई और उभरते हुए भजन गायक "चंचल " जो सभी स्टेज पर मौजूद थे I
108 किलो लड्डू का भोग भक्तों में
बांटा
गया एवं
कार्यक्रम समाप्ति के उपरांत
भंडारा प्रशाद वितरित किया गया I इस प्रोग्राम के मिडिया पार्टनर थे
"जर्नलिस्ट टुडे नैटवर्क" I इस प्रोग्राम में हजारों लोग सपरिवार सहित आये थे सारा पंडाल खचाखच भरा था पांव रखनें तक की जगह न थी I सारा माहोल श्री राम और हनुमान के जयकारों से गूंजता रहा ज्योति की आवाज़ नें भक्तों को नाचनें पर मजबूर कर दिया I

Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.