'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

आखरी पन्ने -11 (दीपक शर्मा 'कुल्लुवी')

30.12.100 पाठकों के सुझाव और विचार

गतांक - 10 से आगे

दोस्तों मैं जाते हुए साल 2010 कि बिदाई और आते हुए नव वर्ष 2011 का स्वागत अपनें कुछ भजनों से करना चाहूँगा I खुदा आप सबको ढेर खुशियाँ प्रदान करे वैसे इसी सप्ताह उड़ीसा के मंदिर में घटित शर्मनाक घटना से मन अत्यंत दुखी है जिसमें एक विदेशी महिला को केवल इस बात के लिए मंदिर से बाहर निकाल दिया क्योंकि वोह भारत की नहीं थी,धर्म के ठेकेदारों से केवल यह पूछना है क्या भगवान् केवल हिन्दुओं के ही हैं विदेशियों के नहीं ,ऐसी घटिया सोच वाले लोगों से नफरत होती है खान तो हमें उस महिला का सम्मान करना चाहिए था और कहाँ उसे ज़िल्लत मिली
मस्त मलंग
हम नाचें तेरे दर पे बाबा हो के मस्त मलंग
जो भी देखे हो जाए दंग -४
(1 )हम तेरे दरवार में आये
मस्ती में बस झूमें गायें
खो जाएँ तेरी भक्ति में बाबा
कोई करे ना तंग
हम नाचें तेरे दर पे बाबा हो के मस्त मलंग
(2 )नाम तिहरा जपते जाएँ
हँसते जाएँ गाए जाएँ
सारी दुनियां में ओ-बाबा
भरे प्यार के रंग
हम नाचें तेरे दर पे बाबा हो के मस्त मलंग
(3 )'दीपक कुल्लुवी 'दर तेरे आया
भजनों के ही हार है लाया
किसी भी रूप में आ जाओ तुम-२
नाचे तिहारे संग
हम नाचें तेरे दर पे बाबा हो के मस्त मलंग
(4 )बेशक में न खाटू आया
लेकिन तुझको साथ ही पाया
शिव शंकर सी चढ़ गई हमपे
तेरे प्यार की भंग
हम नाचें तेरे दर पे बाबा हो के मस्त मलंग
बुला लयो श्याम जी
बाबा झोली म्हारी भर दयो खुशियाँ एO टीO एमO में घर दयो
कोड खुशियों का हमको बता दयो श्याम जी
बाबा झोली म्हारी भर द---------------------
(1)पीसा धेल्ला के करणा श्याम लगन लागी जब तेरी
हटाता रहिए मोर छड़ी से इस जीवन की हनेरी
चाहे खाटू ही बुला लयो चाहे बांड भरा लयो
लिमिट खुशियों की थोड़ी सी बड़ा दयो श्याम जी
कोड खुशियों का हमको बता दयो श्याम जी
बाबा झोली म्हारी भर द---------------
(२)हारों का सहारा बाबा तू ही करे रखवाली
फुल्लां का श्रृंगार प्यारा थारी शान निराली
चाहे म्हारे संग चाल्लो चाहे म्हाने ही बुला लयो
बैरी दुनियां से हमको बचा लयो श्याम जी
कोड खुशियों का हमको बता दयो श्याम जी
बाबा झोली म्हारी भर द---------------
(३)'दीपक कुल्लुवी 'नाम म्हारा हम लिखें हम गायें
जो थान्ने लिखवाया बाबा वोह सबको ही सुणावें
चाहे बंसरी बजाओ म्हारे सोए भाग जगाओ-२
बोल प्यार वाले हमको सुणा दयो श्याम जी
कोड खुशियों का हमको बता दयो श्याम जी
बाबा झोली म्हारी भर द---------------
बाबा बालक नाथ भजन
जाग्गे वाली रात
जाग्गे वाली रात आई नच्च जोगिया
साड्डे नाल नाल तू भी जग्ग जोगिया
जाग्गे वाली रात आई नच्च ------
(१) तू करदा ए प्यार साहनूँ तेरा ही भरोसा ए
दुनियां ते धोखा ए दुनियां ते धोखा ए -२
साहनूँ ते माँ-2 चरणा च रख जोगिया
साड्डे नाल नाल तू भी जग्ग जोगिया
जाग्गे वाली रात आई नच्च -----
(२) तू है भोला भाला बाबा साहनूँ भी सहारा दे
कोई किनारा दे कोई किनारा दे -2
साहनूँ हैगा -2तेरे नाल प्यार जोगिया
साड्डे नाल नाल तू भी जग्ग जोगिया
जाग्गे वाली रात आई नच्च -----
(३) 'दीपक कुल्लुवी' नूँ छड्ड कित्थे जाईँ नाँ
नाल नाल आईँ नाँ नाल नाल आईँ नाँ -२
साड्डा हैगा-2 तेरे उत्ते हक जोगिया
साड्डे नाल नाल तू भी जग्ग जोगिया
जाग्गे वाली रात आई नच्च -----
(४) रूप जटावां वाला दुनियां तों न्यारा ए
बड़ा ही प्यारा ए बड़ा ही प्यारा ए -२
धूणा तेरा कमाल जोगिया
साड्डे नाल नाल तू भी जग्ग जोगिया
जाग्गे वाली रात आई नच्च -----
Imp:Underline words has to be repeated twice
बाबा बालकनाथ भजन
( दीदार किये जा )
अदभुत जोगी का नाम सुबह शाम लिये जा
ह्रदय में बालक नाथ का दीदार किये जा
अदभुत जोगी का नाम सुबह शा
----------
(१)जिसपे कृपा कि जोगी ने वोह लोग तर गये-3
खाली खजाने दुनियां के पल भर मे भर गये-3
अनमोल है यह जीवन------ उपकार किये जा
ह्रदय में बालक नाथ का दीदार किये जा
अदभुत जोगी का नाम सुबह शा
----------------
(२)जोगी ने वांटे दुनिया को खुशियों के खजाने-3
बनके तो देखो आप भी बाबा के दीवाने -3
अमृत है नाम जोगी का ---दिन रात पिये जा
ह्रदय में बालक नाथ का दीदार किये जा
अदभुत जोगी का नाम सुबह शा
-----------------
(३)'दीपक' को अपने चरणों में थोड़ी सी जगह दे-3
सुख शांति का इक घूंट तू हमको भी पिला दे-3
तुझपे रहे बिश्वास----- यह वरदान दिए जा-2
ह्रदय में बालक नाथ का दीदार किये जा
अदभुत जोगी का नाम सुबह शा
-------------
(४)पहाड़ों का है फकीर यह करता कमॉल है-3
पूरे सभी के दुनियाँ में करता स्वाल है-3
जोगी से अपने प्रेम का इजहार किए जा
ह्रदय में बालक नाथ का दीदार किये जा
अदभुत जोगी का नाम सुबह शा
-------------

नाम है मेरा 'दीपक कुल्लुवी'घर मेरा दूर पहाड़
तैन्नूं सौंह मेरे प्यार दी बाबा तू आ जा बस इक बार
----
नाम हमारा ' दीपकुमुद ' है घर है दूर पहाड़
तुझको कसम है प्यार की बाबा आजा बस इक बार
----------------------------------------------
बाबा तू सब भक्तों की तकदीरें लिखता है
बिन मांगे ही भक्तों के दुःख,गम हरता है
फूलों का श्रृंगार है तेरा तेरी शान निराली
बाबा तेरे दरवार से कोई न जाता ख़ाली
------------------------------------------
बाबा बालक नाथ भजन
सारी फिजाओं में
फूलों की फैली खुशबू सर्द हवाओं में
महिमा तिहारी गूंजे सारी फिजाओं में
चरणों से हमको लगाए रखना
---जोगिया ----जोगिया
2
(1 ) प्यारी तेरी मोर सवारी
बालकनाथ तेरी शान निराली
धूणे का,अति सुन्दर दरवार तेरा
प्यार झलकता है तेरी निगाहों में
महिमा तिहारी गूंजे सारी फिजाओं में
चरणों से हमको लगाए रखना-
---जोगिया ----जोगिया
2
(2 ) हारों को दिया तूने सहारा
उसका ही हो लिया जिसने पुकारा
करना कृपा,रहम नज़र रखना तू सदा
जीवन कट जाए तेरी ही छाओं में
महिमा तिहारी गूंजे सारी फिजाओं में
चरणों से हमको लगाए रखना
---जोगिया ----जोगिया
2
(3 )'दीपकुमुद' को तूनें सब कुछ दिया है
बदले में तूनें कुछ न लिया है
करना कृपा,करते रहें गुणगान तेरा
कांटे हटाते रहना बाबा तू राहों के
महिमा तिहारी गूंजे सारी फिजाओं में
चरणों से हमको लगाए रखना
---जोगिया ----जोगिया
2
(4 ) बाबा तेरा प्यार अनोखा
प्रेम खज़ाना दुनियां को परोसा
कुछ न लिया, कुछ न माँगा प्यार किया
हमको बचाए रखना सारे गुनाहों से
महिमा तिहारी गूंजे सारी फिजाओं में
चरणों से हमको लगाए रखना-
---जोगिया ----जोगिया
2

फ़िल्मी गीत : ले तो आए हो हमें सपनों के गाँव में की धुन पर आधारित भजन
--------
नाम कुमुद है दिल में चाह है
बाबा को पाने की
'दीपक कुल्लुवी 'नें लिखे वोह
भजन सुनानें की
---------
खाटू वाले बाबा
ओ-मेरे खाटू वाले बाबा तू बता दे के इरादा-2
मैं हारा मेरा बन जा सहारा पूरा कर ले वादा
(१(तेरे भरोसे हम रहते हैं
दुनियां के गम हम सहते हैं
कट जाएगा जीवन
सुख दुःख वांट ले आधा आधा
ओ-मेरे खाटू वाले बाबा ---------
(२)हर संकट से हमको बचा लो
गम के भंवर से बाहर निकालो
मेरी सूनी बगिया में तू
प्यार के फूल खिला जा
ओ-मेरे खाटू वाले बाबा -----
(३)'दीपक;को श्याम भूल न जानां
वोह तो है तेरा दीवाना
अपनी कृपा प्रसाद तू दे दे
चाहे कम चाहे ज्यादा
ओ-मेरे खाटू वाले बाबा -----

दीपक शर्मा कुल्लुवी
09136211486
शेष अगले अंक 12 में
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.