sponsor

sponsor

Slider

समाचार

साहित्‍य

धर्म और संस्‍कृति

स्‍वास्‍थ्‍य

इतिहास

खेल

विडियो

» » » » » मैं दूर पहाड़ों से आया


मैं दूर पहाड़ों से आया
जहाँ सर्द हवाएं बहती हैं
है व्यास पार्वती का संगम
जहाँ यादें मेरी बसती हैं
मेरे अपनें सभी वहीँ हैं
लेकिन मैं हूँ सबसे दूर
यह था किस्मत का लिखा
नहीं किसी का कसूर
ना जानें कब जा पाऊंगा
बापिस उन खूबसूरत फिजाओं में
कोई याद तो करता होगा
मुझको मेरे गाँव में
'दीपक शर्मा' था उस वक़्त मैं
अब हूं 'दीपक कुल्लुवी'
शक्ल-ओ-सूरत बदली,तखल्लुस बदला
लेकिन सीरत ना बदली
लेकिन सीरत ना ----
दीपक शर्मा 'कुल्लुवी'
०९१३६२११४८६
२७-१०-10

«
Next
नई पोस्ट
»
Previous
पुरानी पोस्ट

2 पाठकों के सुझाव और विचार:

  1. भाव भरी कविता के लिये बधाई
    वैसे कुथु थे आये तुंसा जी... कुल्लूए ते और होर कुथी ते ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. DHANYABAD MOHINDER JI FOR YOUR COMMENTS

    I BELONGS TO KULLU SON OF SH.JAI JEV VIDROHI JI.FOUNDER PRESIDENT OF AUTHORS GUILD OF HIMACHAL
    09136211486(DELHI)

    उत्तर देंहटाएं

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.