'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

महाराज जी के अमृत वचन

22.10.100 पाठकों के सुझाव और विचार


पने गुरूघंटालपूरनचंद जी महाराज श्री श्री लकड़ काठ श्री परम संसारी हैं। समय-समय पर उनके तीनोंबंदर उनके सुसंग में रह उपदेश ग्रहण किया करते थे।

एक दिन उनकेसबसे चालाक बंदर ने महाराज के दिमाग की परीक्षा लेते हुए कि महाराज का दिमाग अपडेटहै भी कि नहीं,उनसेप्रश्‍न किया,‘हे गुरूघंटाल!मेरा किसीसे लड़ाई करने को मन बड़ा मचल रहा है। बड़े दिन हो गए किसीसे बिना लड़ाईकिए। ऐसे में लड़ाई में जीत का सबसे सशक्‍त हथियार क्‍या है?'
अपने शिष्‍यकी लंपटी पिपासा को शांत करते हुए तब गुरूघंटाल ने कहा,‘हे मेरे प्रियशिष्‍य! लड़ाई में जीतने का सबसे आसान तरीका यह है कि लड़ाई में मर्द पीछे दुबकारहे और अपनी घरवाली की इज्‍जत की परवाह किए बिना उसे थाने में खड़ा करता रहे। इसकाप्रमाण देते हुए मैं तुम्‍हें एक रोचक कथा सुनाता हूं ,‘ जंबू द्वीप मेंएक पंडितों का गांव था। उस गांव में पूरनानंद का परिवार रहता था। महादंगई! वहगांववालों से लड़ने का कोई न कोई बहाना ढूंढता रहता। पूरनानंद का अपनी पत्‍नी परकतई भी कंट्रोल न था। जब भी गांव में उसका किसी से लड़ाई करने का मन होता, बन्‍ना बढ़ानेको मन होता तो वह वह अपनी औरत को आगे कर देता, बेचारा कहीं का! और वह सती सावित्री लोगों परअपनी इज्‍जत हनन के झूठे आरोप जड़ देती, ऐसे आरोप कि उन्‍हें सुन आरोप भी पानी-पानीहो जाते। और बेचारे आरोप अपनी इज्‍जत लिए भाग खड़े होते। औरत जात का लाभ उसे हरबार मिल जाता। गांव के कुछ लोग शर्म के मारे ,तो कुछ उसकी बेशर्मी को देख चुप हो जाते याअपनी हार मान लेते । जिसके चेहरे पर नाक ही न हो उसे औरों की नाक उतारने में बड़मजा आता है,आना भीचाहिए! जीवन का असली आनंद तो यही है। पूरनानंद की औरत की तरह। देखते ही देखते वहजिस से लड़ती जीत जाती। उसका बेटा मां द्वारा जीते केसों की लिस्‍ट बनाने मे मग्‍नरहता। उसका पति ऐसी पत्‍नी को पा फूला न समाता। सही होते हुए भी अब गांव में उससेकोई भी पंगा न लेता। अब घर में तो पूरनानंद के पूरे आनंद थे ही,गांव भीपूर्णानंद की दशा को प्राप्‍त हो गया । गांव ने वाले पूरनानंद की घरवाली तो घरवाली,उसकी परछाई सेभी डरते ।'बोलोपूरनचंद महाराज की जय!
तब महाराजके दूसरे बंदर ने महाराज से पूछा,‘ भगवन, आज के रेलमपेल के दौर में स्‍वर्ग कैसेप्राप्‍त हो?'
महाराज नेचिलम का गहरा कश लिया,तत्‍पश्‍चात गंभीर हो बोले,‘हे मेरे प्रियबंदर! जो संसारी औरों के हक हड़पते हैं,जो झूठ सीना चौड़ा कर खुले बाजार में खड़े होशान से रहते हैं, जिनका अपना सिर नंगा होता है पर ,औरों की पगड़ीउछाल कर परिश्रम से चूर हुए रहते हैं,जो औरों के लिए सदा गड्‌ढा खोदते हैं,ऐसे सज्‍जनों कोसदा स्‍वर्ग की प्राप्‍ति होती है। जो दुर्जन सत्‍य, अहिंसा ,त्‍याग,तपस्‍या को अपनेजीवन का अंग बनाते हैं , उन्‍हें नरक की प्राप्‍ति होती है। आज के दौर में जो अपनेमाता पिता की सेवा करते हैं वे भी नरक के ही अधिकारी बनते हैं। जो अपने रिश्‍तेदारोंको हमेशा परेशान करते हैं,वे स्‍वर्ग के अधिकारी होते हैं। अपनी घरवाली के होते हुएजो औरों की घरवालियों पर उन्‍हें अपनी धर्म बहन बना अपना पौरुष न्‍यौछावर करते हैंउन्‍हें स्‍वर्ग के द्वार आठों याम खुले रहते हैं। वे बिना वीजा के स्‍वर्ग मेंकहीं भी आ जा सकते हैं। ' कुछ देर तक लंबी सांसें भरने के बाद महाराज ने अपने प्रियोंको पुनःसंबोधित करते हुए कहा,‘जो दूसरों की सपने में भी सहायता नहीं करते उन्‍हें भी स्‍वर्गप्राप्‍त होता है। मुंह के आगे और, और पीठ के पीछे और रहने वालों को भी स्‍वर्गकी प्राप्‍ति तय मानो । जो विशुद्ध सांसारिक आत्‍माएं हमेशा दूसरों की निंदा मेंनिमग्‍न रहती हैं वे वैतरणी पलक झपकते पार कर लेती हैं। इसलिए जो सज्‍जन स्‍वर्गमें भी मौज करना चाहते हों वे नित्‍य कर्म में सभी तामसिक वृत्‍तियों,प्रवृत्‍तियोंको शामिल करें तो उन्‍हें मोक्ष पक्‍का मानो।'
तब तीसरेबंदर ने अपना प्रश्‍न किया,‘हे मेरे परम प्रिय गुरू घंटाल! इस लोक में सबसे सुखी कौन है?'
तब गुरूघंटाल ने उसकी भी पिपासा को शांत करते हुए कहा,‘जिसके चित में संतोष है, जो आज के दौरमें भरा है,जो जिओ और जीनेदो के सिद्धांत में विश्‍वास रखता है,वह इस लोक का सबसे बड़ा दरिद्र है। जो इच्‍छाओंका भक्‍त है,जिसकीनजरें हमेशा गिद्ध की तरह औरों की थाली पर ही जमी रहती हैं, जो हमेशा भूखाही रहता है,वही सच्‍चाधनवान है। जो आत्‍माएं चौबीसों घंटे औरों का बुरा ही सोचती रहती हैं, सभी को धुआंदेकर रखती हैं,किसी कोगाली-गलौज किए बिना जिनको रोटी हज्‍म नहीं होती, वे आत्‍माएं हीइस संसार की सबसे सुखी आत्‍माएं हैं। ऐसी आत्‍माओं को मैं सुबह से शाम तक नमस्‍कारकरता हूं।
तब सृष्‍टिमें दूर-दूर तक फैले अपने भक्‍तों को टीवी के माध्‍यम से संबोधित करते हुए गुरूघंटाल जी महाराज ने कहा ,‘जिस दिन मनुष्‍य से जूतमपैजार,अपराध , पर निंदा, लूटखसूट , पर पीड़ा , असहिष्‍णुताजैसे सत्‍कर्म नहीं होते वह दिन मनुष्‍य का व्‍यर्थ जाता है।'
इस प्रकारगुरू के ज्ञान में डुबकियां लगा तीनों बंदर भव सागर पार हुए। बोलो गुरूघंटालमहाराज की जय!!
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.