'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

हैप्‍पी मत हो बापू

22.10.100 पाठकों के सुझाव और विचार


पने शहर मेंपुलिस लेन के आसपास अब चोरी होना आम बात है। शुरू शुरू में अखबार वाले इस खबर कोछाप दिया करते थे। पर अब अखबार वाले ऐसी बातों की ओर कोई ध्‍यान नहीं देते। हम भीनहीं देते। पुलिस वाले तो भला क्‍यों देंगे?

मेरे एकमित्र कैंटोन्‍मेंट एरिया में रहते हैं। चार दिन पहले तक अघाए नहीं फिरते थे किशहर में कोई सेफ हो या न, पर हम सेफ हैं। मुझे भी उनके वहां सेफ होने पर बड़ा दुःखहोता था। पर मजे की बात उस दिन दिन दहाड़े उनके घर में चोरी हो गई। चोर चारपाई तकउठा कर ले गए। मजा आ गया। सच पूछो कुछ देर के लिए उस वक्‍त मैं फूला नहीं समाया।हंसते हंसते अचानक जब सामने की दीवार पर नजर गई तो सामने फ्रेम में बंद सदा पिताकी तरह उदास रहने वाले बापू भी हंस रहे थे । उन्‍हें हंसते देख पल भर के लिए मेरीघिग्‍गी बंध गई। यार! बापू ने भी अब औरों का नुकसान होने पर जश्‍न मनाना शुरू करदिया? जब मुझसे रहानहीं गया तो मैंने पेट पकड़े हंसते हुए उनसे पूछा,‘ बापू जी! ये क्‍या?मेरे मित्र केघर चोरी होने पर मेरा खुशी होना तो जायज है पर आपका यों खुशी होना पच नहीं रहा।'
जो तुम सोच रहेहो मेरी खुशी का कारण वो नहीं। तुम्‍हारे मित्र के घर दिन दहाड़े चोरी होने कादुःख मुझे उतना ही है जितना तुम्‍हारे मित्र की घरवाली को है। जाकी रही भावना जैसी, मित्र के पीड़ादेखी तिन तैसी।' कह वे मुस्‍कुराते रहे।
तो आपके हंसनेका कारण जान सकता हूं?' मैंने गंभीर होने का नाटक करते पूछा। ।
अमेरिका से मेरेचप्‍पल,लोटा, थाली, घड़ी, चश्‍मा मेरे देशआ गए।'
न भी आते तो भीक्‍या होता! इसमें इतना इतराने की बात है क्‍या?आपके चप्‍पलों के बिना भी संसद में चप्‍पलतो चल ही रहे हैं। आपके चश्‍मे के बिना भी तो देश के कर्णधार अपने को देख ही रहेहैं। आपकी घड़ी के बिना भी तो देश में चुनाव हो ही रहे हैं। आपकी थाली के बिना भीतो खाने वाले दिल खोलकर खा रहे हैं। आपके लोटे के बिना भी तो देश अपने अपने कुएंपर मिनरल वाटर पी ही रहा है। अब अगर चश्‍मा, थाली, लोटा, चप्‍पल, घड़ी लौट कर आ ही गए तो कौन सा देश में आपकासोचा हो जाएगा बापू! इन चीजों के आने से देश में कौन सी क्रांति आ जाएगी? यह आपके दिमागकी कोरी भ्रांति है। दिल बहलाने के लिए बापू ख्‍याल अच्‍छा है। बहला लो दिल बापू!दिल बहलाने के अभी यहां दाम नहीं लगते।' कह मैंने एक बार फिर अपने पिता को पछाड़ने कीतरह बापू को पछाड़ अपना सीना गर्व से ऊंचा किया। इस बापू की भी एक मुश्‍किल है ,वह यह कि सौ बारमुझसे पछाड़ खाने के बाद भी मेरे यहां टिके हुए हैं। ढीठ कहीं के।
मेरे लिए तो बसयह खुशी की ही बात है। और खुशी की बात यह है कि बरसों हो गए थे देश को स्‍वदेशीचप्‍पलों पर चले बिना। अब एडीडास के जूते पहनने से सारा देश तो रहा। बड़े दिन होगए थे अपनी थाली में सत्‍तू खाए बिना। कागज की प्‍लेट में खाना तो अपनी संस्‍कृतिनहीं । थाली के बिना देश ने कागज की प्‍लेटों में पिज्‍जा खा खा कर पेट बिगाड़लिया, पर्यावरण बिगाड़लिया। बड़े दिन हो गए थे देश को विदेशी घड़ी से अपने यहां सूरज उगते देखते हुए।मुए सही वक्‍त का पता ही नहीं लग रहा था। अब अपनी घड़ी में सही वक्‍त तो देखने कोमिलेगा। अब मेरी घड़ी आ गई है, सही समय पर सही कदम तो उठाए जा सकेंगे। अब, देश में सही समयपर सही मर्ज का इलाज तो हो सकेगा। नहीं तो पता ही नहीं चल रहा था कि देश में हो क्‍यारहा है। और तो और, अब तो ऋतुएं भी समय पर आना भूल रही हैं। मेरा चश्‍मा आ गयाहै, अब यहां की समस्‍याओंको विदेशी आंखों से देखना तो रूकेगा। अब सरकार को सब ठीक दिखेगा। अब सरकार को जोभूखे हैं,भूखे हीदिखेंगे। जो नंगे हैं, वे नंगे ही दिखेंगे। अब देश मेरी चप्‍पलों को पहन कर चलेगातो देख लेना राम राज आते देर न लगेगी। अब देश मेरी थाली में खाएगा तो देख लेनायहां कोई भी भूखा नहीं सोएगा। अब देश मेरे चश्‍मे से देखेगा तो देख लेना सरकारोंको जो वास्‍तव में है, वही दिखेगा। जब देश मेरे लोटे से पानी पिएगा तो सब जन एक होजाएंगे, जन जन की हर तरहकी प्‍यास मिट जाएगी।' इस उम्र में भी एक सांस में सब कह जाने वाले बापू का उत्‍साहदेखने लायक था।
बस! कह लिए किऔर कहना बाकी है?' मैंने उन्‍हें पूछा तो वे कुछ कहने के बदले बस मुस्‍कुरातेरहे। कुछ देर बाद मैंने ही उनसे कहा,‘ अब तुम अपनाने की नहीं सजाने की चीज हो बापू।हम अब आपको अपनाने की नहीं, सजाने की खाते हैं। सच तो यह है कि आपको अपनाने का किसीकेपास वक्‍त नहीं,दीवार पर, चौक पर सजाने का वक्‍त संसद से सड़क तक सबके पास है। इसलिएज्‍यादा मत उछलो, ढंके हुए हो तो ढंके रहो।' मैंने कहा तोबापू का हंसता चेहरा फिर उदास हो गया। असल में क्‍या है न! पिता चाहे घर का हो याराष्‍ट्र का,वह चाहेफ्रेम से बाहर हो या फ्रेम के भीतर वह चिंतन में ही अच्‍छा लगता है।


Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.