'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

प्राकृति से खिलवाड़

16.9.100 पाठकों के सुझाव और विचार

प्राकृति से खिलवाड़

प्राकृति से खिलवाड़ होगा तो प्राकृतिक आपदा आएगी ही I कहीं बाढ़ कहीं आग कहीं सूखे की मार कहीं बादल फटने की घटनाएँ कहीं भूकंप आज एक आम सी बात हो गई है I कारण केवल एक ही है प्राकृति से खिलवाड़ I पहाड़ों जंगलों खेत खलिहानों को काट काटकर बड़े बड़े भवन,होटल बन गए I भूमाफिया जंगल माफिया राज कर रहे हैं I गरीब लोग परेशान हैं I वृक्ष कटते जा रहे हैं I धीरे धीरे हम प्रलय की और जाते जा रहे हैं I समय रहते हम लोगों में जागरूकता नहीं आई तो वो दिन दूर नहीं जब इस धरा का नामो निशान मिट जाएगा I नाँ हम होंगे ना कोई हमारा नाम लेने वाला I हम सबको दिमाग से काम लेना चाहिए भूमि कटाव कम करें ,जगह जगह वृक्ष लगाएँ I हम प्राकृति का सम्मान करेंगे तभी प्राकृति हमारा साथ देगी अन्यथा हमें तहस नहस कर देगी I

दीपक शर्मा कुल्लुवीदीपक साहित्य सदन शमशी कुल्लू हिमाचल प्रदेश 175126

09136211486
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.