'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

रिज मैदान पर दरार

7.9.100 पाठकों के सुझाव और विचार

रिज मैदान पर आई दरार खतरनाक साबित हो रही है। शनिवार रात हुई जोरदार बारिश के बाद यहां भूस्खलन से रिज मैदान का करीब छह फुट हिस्सा धंस गया है। भूस्खलन के बाद रिज मैदान से लक्कड़ बाजार की ओर आने वाले मार्ग को भी एहतियात के तौर पर बंद कर दिया गया है। साथ ही रिज मैदान के नीचे स्थित तिब्बती मार्केट को खाली करवा दिया गया है।
रिज मैदान पर कुछ दिन पहले दरार आ गई थी, जिसके बाद से नगर निगम ऊपरी तौर पर दरार भरने के लिए प्रयास करता रहा। समस्या का स्थायी समाधान न होने के कारण अब रिज मैदान के एक भाग पर भूस्खलन हो गया है। भूस्खलन के बाद प्रभावित क्षेत्र को तिरपाल से ढक दिया गया है। भूस्खलन के बाद रिज मैदान के साथ-साथ लोअर बाजार टनल से लक्कड़ बाजार बस स्टैंड जाने वाला रास्ता भी खतरनाक हो गया है।
भूस्खलन के कारण इस क्षेत्र में दुकानें चलाने वाले लोगों को अपना धंधा समेटना पड़ गया है। अभी तक इन लोगों को किसी अन्य स्थान पर बसाने के लिए कोई पुख्ता प्रबंध नहीं किए गए हैं। इसके चलते प्रभावित लोगों के लिए रोजी रोटी का जुगाड़ करना मुश्किल हो गया है। इससे पहले २००८ में भी रिज मैदान का एक भाग धंस गया था, जिसमें रिज से सटी तिब्बती मार्केट भी क्षतिग्रस्त हो गई थी। दुर्घटना में जानी नुकसान भी हुआ था। रिज के नीचे बीस से पच्चीस लाख लीटर का पानी भंडारण क्षमता का टैंक है, भूस्खलन के कारण पानी के इस टैंक को भी खतरा पैदा हो गया है।
रिज को बचाने के लिए सरकार भी करे मदद ः महापौर
नगर निगम की महापौर मधु सूद का कहना है कि रिज को बचाने की जिम्मेदारी नगर निगम के साथ-साथ सरकार की भी है। सरकार को भी मदद के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने बताया कि नगर निगम ने रिज मैदान की समस्या के समाधान के लिए सरकार को एक करोड़ ३८ लाख रुपए का एस्टीमेट पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर को टेक्नीकल सेंक्शन के लिए भेजा गया है। एडीबी बैंक से भी इसके लिए वित्तीय मदद मांगी गई है।

Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.