'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

हिमाचल में स्कूल प्रवक्ता काडर खत्म

6.8.100 पाठकों के सुझाव और विचार


हिमाचल प्रदेश में अब स्कूल प्रवक्ता काडर खत्म हो गया है। 19 जुलाई 2010 के बाद शिक्षा विभाग में जो भी भर्तियां होंगी वे पोस्ट ग्रेजुएट टीचर्स की होंगी। ये अध्यापक छठी कक्षा से 12वीं तक के विद्यार्थियों को पढ़ाएंगे। कुल मिलाकर प्रत्येक 'पीजीटी' को 30 कक्षाएं सप्ताह में लेनी ही होंगी। नए नियमों के अमल के बाद पुराने पक्के प्रवक्ता आराम की स्थिति में ही रहेंगे। वह केवल 11वीं व 12वीं की कक्षाएं (दिन में सिर्फ दो लेक्चर) ही लेंगे। सरकार ने प्रवक्ता काडर पर नई व्यवस्था इसलिए की है क्योंकि स्कूलों में कार्य क्षमता बढ़ाई जानी थी। अबसे पहले एक टीजीटी तो सप्ताह में 30 कक्षाएं लेता था लेकिन स्कूल प्रवक्ता की भूमिका दो कक्षाओं पर ही सिमट जाती थी।
शिक्षा मंत्री ईश्वर दास धीमान कहते हैं कि अनुबंध पर नियुक्त प्रवक्ताओं को यूं तो 9वीं से 12वीं तक पढ़ाना होता है लेकिन अब छठी, सातवीं व आठवीं कक्षाओं को भी वह पढ़ा सकेंगे, यदि उनके लेक्चर पूरे न हो रहे हों। गौरतलब है कि नए भर्ती नियमों में यह बदलाव किया गया है लेकिन पुराने नियम पहले से नियुक्त स्कूल प्रवक्ताओं व 19 जुलाई 2010 तक पदोन्नत हुए टीजीटी के लिए यथावत रहेंगे।
उच्च शिक्षा निदेशक ओपी शर्मा कहते हैं कि जो भी नए पीजीटी भर्ती होंगे वे छठी से 12वीं तक की कक्षाएं लेंगे। 19 जुलाई के बाद जो भी ट्रेंड ग्रेज्युएट टीचर (टीजीटी) पदोन्नत होंगे वे प्रवक्ता नहीं होंगे और हाई स्कूल की कक्षाओं को पढ़ा सकेंगे। नए लोगों के लिए 30 लेक्चर लेना जरूरी होगा। अनुबंध पर भी जो नई भर्तियां होंगी वह लेक्चरार नहीं बल्कि पीजीटी ही होंगी। लेकिन 19 जुलाई से पहले प्रमोट हुए एवं अनुबंध पर लगे लोगों का पदनाम वैसा ही रहेगा।
गौर है कि हिमाचल में करीब साढ़े आठ हजार टीजीटी है और करीब इतने ही प्रवक्ता हैं। इनमें हाल ही में पदोन्नत टीजीटी व अनुबंध पर लगे प्रवक्ता भी हैं। अब पदोन्नत होने वाले 'टीजीटी' को झटका लगेगा जबकि नई भर्ती वालों को भी काम ज्यादा करना होगा। हां, पहले से तैनात स्कूल काडर प्रवक्ताओं की मौज रहेगी।
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.