Home » YOU ARE HERE » अँधियारा सवेरा

अँधियारा सवेरा

उजली चादर ओढ़
निकला नया सवेरा ;
पर अधखुली इन आँखों से
छटा नहीं था अभी अँधेरा ;
थोड़ी सी थी नमी
छाया था अभी कोहरा !

ये सुबह बीत कर
दोपहर में बदल गई ;
हज़ार कोशिशे नाकाम रही
अँधेरा लिपटा था मुझसे अभी ;
दिन भी बीत गया ऐसे
इसी कशमकश में शाम गई !

रात ने आकर अब
चान्दनी की आस लगाई ;
रेगिस्तान की तपती रेत की तरह
उसे मिलेगी ठंडक ये ठाठ बंधाई ;
पर अमावस्या की रात को
चाँद कहाँ निकलता है ;
बस अँधेरा ही अँधेरा
सबको समेटे चलता है !

रात तो आखिर रात ठहरी
सुबह का फिर इंतज़ार हुआ ;
 पर आज का सवेरा भी
वैसा ही अँधियारा हुआ ;
अधखुली इन आँखों को
उजाले का न दीदार हुआ !

इसी कशमकश --२
दिन बीत कर रातों में बदले
महीनों के क्षण सालों में बदले
पर न बदला तो वो सवेरा
       अँधियारा सवेरा
               अँधियारा सवेरा !!
                                                            सुमन 'मीत'

2 comments:

  1. रात तो आखिर रात ठहरी
    सुबह का फिर इंतज़ार हुआ ;
    यह सुबह का इंतजार ही तो जीजिविषा को बरकरार रखती है
    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.