sponsor

sponsor

Slider

समाचार

साहित्‍य

धर्म और संस्‍कृति

स्‍वास्‍थ्‍य

इतिहास

खेल

विडियो

» » » वह शशी कहाँ है

बड़ी रात हो गई है वसती भी सो गई है , कोई मुझे भी सुलाओ बड़ी नींद आ रही है!


वही जो शाम तक था पुरा वही चंद्र माँ अधुरा , सागर बजा राह है लहरों का तन पुरा !


यही वक्त गीत का है नही हर जित का है, शायद इसी खुशी में मेरी रूह गा रही है !


कभी प्यार की नजर सी कभी नाग की जहर सी, मेरी जिन्दगी ही मेरी गर्दन झुका रही है!


हर चीज छूटती है हर आस टूटती है , जब मौत की नदी में यह दे डूबती है !


पूछो नही कहाँ हूँ पर खुश नही जहाँ हूँ , होना जहाँ नही था में आजकल वहां हूँ !

वैसे तो जो मुझको मानता है , पर ऐसे लोग कम है जो मुझको जानते है !


उनको ही दूंदता हूँ उनसे ही पूछता हूँ , वो शशी कहाँ हे जो याद आ रही है !

«
Next
नई पोस्ट
»
Previous
पुरानी पोस्ट

1 पाठकों के सुझाव और विचार:

  1. it a very good thought :'' aksar ye hota hae jhan mea, jo chahiye tha milna, ata nahi hae jiwan me. fir bhi gam na kar e dost kabhi kisi ko mukamil jhan nahi milta hae es jiwan mea!

    जवाब देंहटाएं

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.