'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

परीक्षा

1.8.090 पाठकों के सुझाव और विचार


एक बार भृगु ऋषि के मन में भगवान ब्रम्हा विष्णु और महेश की परीक्षा लेने का विचार आया ! वे जानना चाहते थे की इन तीनो में कौन है ! भृगु ऋषि सबसे पहले ब्रह्म लोक पहुंचे ! उन्होंने ब्रह्माजी को प्रणाम किए बिना ही कुछ ऐसे कटु शब्दों का उचारण किया की ब्रह्म जी क्रोधित हो कर उन्हें दंड देने के लिए तत्पर हो उठे ! देवी सरस्वती ने ब्रह्माजी का हाथ पकड़ कर उन्हें सयम बरतने को कहा ! भृगु जी ने भगवन ब्रहमाजी से क्षमा याचना की और लौट गए ! इसके बाद वे कैलाश पर्वत पहुंचे वहां शंकर जी के प्रति उन्होंने अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया यह देखते ही शंकरजी ने रुष्ट हो कर मरने के लिए त्रिशूल उठा लिया ! भृगु ऋषि ने क्षमा मांगी और लोट गए ! अब भृगु ऋषि विष्णु जी की परीक्षा लेने के लिए उनके धाम पहुंचे ! विष्णु भगवन सो रहे थे भृगु ने विष्णु जी की छाती पर जोर से लातसे प्रहार किया ! लात लगते ही विष्णु जी की नींद खुल गई उन्होंने ऋषि के पैर पकड़ लिए और सहलाते हुए कहा मेरे कठोर शरीर पर प्रहार से आपके पैर में चोट तो नहो लगी ! इतना सुनते ही भृगु ऋषि विष्णु जी के चरणों में गिर पड़े और क्षमा मंगाते हुए बोले प्रभु आज मैं इस निष्कर्ष पर पहुँच हूँ की तीनो लोकों में आप ही श्रेष्ठ है क्योंकि आप सहनशील एवं क्षमावान है! हमारे धरम शास्त्रों में सहनशीलता और क्षमा भावना को बहुत महत्व दिया गया है !
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.