'हिमधारा' हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स का मंच

नवोदित रचनाकार प्रवीण कुमार अम्बडिया

25.8.090 पाठकों के सुझाव और विचार



मन में अगर कुछ कर गुजरने की चाह हो तो रास्तें खुद ही निकल आते है ! मस्कुलर डिसट्राफी एक ऐसा रोग है जो व्यक्ति को लगभग नकारा कर देता है ! पिछले दिनों एक नवोदित रचनाकार प्रवीण कुमार अम्बडिया का काव्य संग्रह तलाश पढ़ने का मोका मिला ! हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा जिला के अम्बाडी गाँव में 30 जून 1977 को जन्मे प्रवीण को दूसरी कक्षा में पढ़ते ही मस्कुलर डिसट्राफी ने अपंग कर दिया ! प्रवीण ने कुछ समय तो स्कुल में अध्ययन किया परन्तु आठवीं कक्षा के बाद प्रवीण को स्कुल छोड़ना पड़ा !
प्रवीण ने अपनी विकलागता को अपने जीवन में रूकावट नहीं बनने दिया ! साहित्य में रूचि ने कविता लेखन की तरफ अग्रसर किया ! प्रवीण अब तक लगभग 500 कवितायेँ लिख चुका है ! तलाश में प्रवीण की करीब 36 कवितायेँ है जिनमे से कुछ कविताये बरबस ही मन को
प्रभित करती है ! विकलागंता, खुशियाँ, मस्त पवन, जीने का इरादा, मैं हूँ नन्ही सी परी, हे माँ आदि प्रभावित करने वाली कवितायेँ है !
हिमाचल के सोलन स्तिथ इंडियन एसोसिअशन ऑफ़ मस्कुलर डिसट्राफी द्वारा प्रकशित प्रवीण के काव्य संग्रह का मूल्य 50 रुपये है ! यह सहयोग प्रवीण को मस्कुलर डिसट्राफी से लड़ने के प्रेरित करेगा ! मैं पाठकों के सुविधा के लिए एसोसिअशन का पता दे रहा हूँ जहाँ से अधिक जानकारी प्राप्त की जा सकती है !
इंडियन एसोसिअशन ऑफ़ मस्कुलर डिसट्राफी
हॉस्पिटल रोड, सोलन 173212
फोन : 01792 223183, 09816905118
Share this article :

एक टिप्पणी भेजें

हिमधारा हिमाचल प्रदेश के शौकिया और अव्‍यवसायिक ब्‍लोगर्स की अभिव्‍याक्ति का मंच है।
हिमधारा के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।
हिमधारा में प्रकाशित होने वाली खबरों से हिमधारा का सहमत होना अनिवार्य नहीं है, न ही किसी खबर की जिम्मेदारी लेने के लिए बाध्य हैं।

Materials posted in Himdhara are not moderated, HIMDHARA is not responsible for the views, opinions and content posted by the conrtibutors and readers.